Shaayar Kuldip

उसके लिए ह

Posted By on November 30, 2017 in Romantic | 1 comment

Spread the love

उसके लिए ह

ख्यालों से रुखसत जो होता नहीं
मुहब्बत की हर षाम उसके लिए है
नाम हमारा जो लेने से डरता है
हुए हम तो बदनाम उसके लिए हैं

बनाए जो जल करके दीदार-काबिल
वो रोषन मुकाम उसके लिए है
षिद्दत के गम को भी हँस के सहेंगे
खुषियों के इनाम उसके लिए हैं

मुष्किल डगर पर चलना है मुझको
सब ऐषों आराम उसके लिए है
मुहब्बत में बरबाद होकर हँसेंगे
ये मेरा पैगाम उसके लिए हैं

मिटा देंगे तो मिट जायेंगे यारो
दिल से सलाम उसके लिए है
गर वो नहीं तो हम भी नहीं हैं
मरना सरेआम उसके लिए है।

1 Comment

  1. Majid December 22, 2017

    Heart touching shayiri.excelent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *